चाणक्य की तर्क शक्ति

Post Reply
User avatar
chandresh_kumar
Sr. Member
Sr. Member
Posts: 495
Joined: Sun Oct 17, 2010 6:43 am
Location: Udaipur, Rajasthan, India
Contact:

चाणक्य की तर्क शक्ति

Post by chandresh_kumar »

एक दिन चाणक्य का एक परिचित उनके पास आया और उत्साह से कहने लगा, 'आप जानते हैं, अभी-अभी मैंने आपके मित्र के बारे में क्या सुना?'

चाणक्य अपनी तर्क-शक्ति, ज्ञान और व्यवहार-कुशलता के लिए विख्यात थे। उन्होंने अपने परिचित से कहा, 'आपकी बात मैं सुनूं, इसके पहले मैं चाहूंगा कि आप त्रिगुण परीक्षण से गुजरें।'

उस परिचित ने पूछा, ' यह त्रिगुण परीक्षण क्या है?'

चाणक्य ने समझाया , ' आप मुझे मेरे मित्र के बारे में बताएं, इससे पहले अच्छा यह होगा कि जो कहें, उसे थोड़ा परख लें, थोड़ा छान लें। इसीलिए मैं इस प्रक्रिया को त्रिगुण परीक्षण कहता हूं। इसकी पहली कसौटी है सत्य। इस कसौटी के अनुसार जानना जरूरी है कि जो आप कहने वाले हैं, वह सत्य है। आप खुद उसके बारे में अच्छी तरह जानते हैं?'

'नहीं,' वह आदमी बोला, 'वास्तव में मैंने इसे कहीं सुना था। खुद देखा या अनुभव नहीं किया था।'

'ठीक है,' - चाणक्य ने कहा, 'आपको पता नहीं है कि यह बात सत्य है या असत्य। दूसरी कसौटी है -' अच्छाई। क्या आप मुझे मेरे मित्र की कोई अच्छाई बताने वाले हैं?'

'नहीं,' उस व्यक्ति ने कहा। इस पर चाणक्य बोले,' जो आप कहने वाले हैं, वह न तो सत्य है, न ही अच्छा। चलिए, तीसरा परीक्षण कर ही डालते हैं ।'

'तीसरी कसौटी है - उपयोगिता। जो आप कहने वाले हैं, वह क्या मेरे लिए उपयोगी है?'

'नहीं, ऐसा तो नहीं है।' सुनकर चाणक्य ने आखिरी बात कह दी।' आप मुझे जो बताने वाले हैं, वह न सत्य है, न अच्छा और न ही उपयोगी, फिर आप मुझे बताना क्यों चाहते हैं?'

जो बात ना सत्य हो, ना अच्छी और ना ही उपयोगी, उसे ना कहना ही बेहतर है । इस तरह की बात कहने से अच्छा मौन रहना है ।

lighthope
Full Member
Full Member
Posts: 128
Joined: Wed May 12, 2010 8:21 am

Re: चाणक्य की तर्क शक्ति

Post by lighthope »

आप मुझे जो बताने वाले हैं, वह न सत्य है, न अच्छा और न ही उपयोगी, फिर आप मुझे बताना क्यों चाहते हैं?'
bilkul satya chandresh ji ...aisi baat kahane se kya labh ....

Recalling one sanskrit shlok of class 6 standard..
"
satyam bruyaat ,priyam bruyat. apriyam satyam na bruyaat, priyam asatyam na bruyaat"

" we shuld always speak truth but it shuld be sweet to listen, we shuld not speak bitter truth but we shuld not speak sweet lie also..."

Post Reply